Share
बास के गन्दे फोन काल की शिकायत करने वाली महिला को ही जेल भेजा

बास के गन्दे फोन काल की शिकायत करने वाली महिला को ही जेल भेजा

एक महिला को अपने बास के गन्दे फोन काल्स को रिकार्ड करने और उसे सजा दिलाने की कोशिश करना इतना भारी पड़ा कि अदालत ने उसे तो जेल भेज दिया जबकि उसका वह बदमाश बास आज भी मुक्त घूम रहा है.

मामला इंडोनेशिया का है पर यह दुनियाभर में महिला अधिकारों की पैरोकारी करने वालो के लिए एक सबक है जहां नुरूल मकनून नामक की एक महिला को अवैध सम्बन्ध बनाने के लिए लगातार फोन करके दबाव बना रहे एक शख्स की फोन काल रिकार्ड करना और उसे किसी भी दूसरे शख्स यहां तक कि अदालत को सुनाना भी पोर्नोग्राफी को फैलाने जैसा अपराध माना गया है और महिला को ही सजा दे दी गई.

2015 से शुरू हुई इस कानूनी लड़ाई में खुद को मुस्लिम बताने वाले एक शख्स ने अपनी फोन्स को रिकार्ड करके दूसरे को सुनाने के  लिए महिला के खिलाफ पुलिस में अवमानना का मामला भी दायर किया था.

अदालती दस्तावेजों के अनुसार महिला को 2012 से इस शख्स से गन्दी फोन काल्स मिलनी शुरू हो गईं जिसे उसने रिकार्ड किया और अपने पति के साथ कुछ लोगों और सोशल मीडिया पर उस  समय शेयर किया जब उस पर अपने बास के साथ अवैध सम्बन्धों के आरोप लगने लगे.

हालांकि उसकी वकील ने अदालत में कहा कि उसने सोशल मीडिया पर कभी इन रिकार्डिंगो को शेयर नहीं किया और उसे किसी अनजान शख्स ने उसके फोन से डाउनलोड कर लिया जब वह कमरे में नहीं थी.

इस मामले की जांच के दौरान भी यह महिला महीने भर तक जेल में रही थी और अब वहां की सुप्रीम कोर्ट ने भी उसकी छह महीने की जेल की सजा बरकरार रखने का अंतिम फैसला दे दिया है साथ ही कहा है कि अगर वह 35 हजार डालर की जुर्माना नहीं भरती तो उसकी जेल की सजा बढ़ाई जा सकती है.

उल्लेखनीय है कि इंडोनेशिया में महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले दोयम दर्जे का नागरिक माना जाता है और इसके खिलाफ  इसी 27 अप्रैल को राजधानी जकार्ता में महिलाओं ने सड़क पर निकलकर बड़ा प्रदर्शन किया था.

Spread the love

Leave a Comment