Share
ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग को मंजूरी पर कुर्सी को लेकर कोई बड़ा खतरा नहीं

ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग को मंजूरी पर कुर्सी को लेकर कोई बड़ा खतरा नहीं

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ अमेरिकी संसद के निचले सदन में पद का दुरुपयोग करके अपने विरोधियों को परेशान करने का आरोप लगाते हुए महाभियोग चलाने का प्रस्ताव पारित हो गया और अब महीने-डेढ़ महीने में उन पर उच्च सदन यानि कांग्रेस में मुकदमा चलाया जाएगा और इसमें भी अगर वे दोषी साबित हुए तो उनकी कुर्सी जा सकती है.

अमेरिकी संसद के हाउस आफ आफ रिप्रेजेंटेटिव यानि निचले सदन में 228 के मुकाबले 185 वोटों से ट्र्म्प के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पारित हो गया.

राष्ट्रपति बिल क्लिंटन और एंड्र्यू जॉनसन के बाद ट्रम्प  तीसरे अमेरिकी राष्ट्रपति हैं जिनके खिलाफ महाभियोग चलाने का प्रस्ताव पारित हुआ है लेकिन इस प्रस्ताव की अग्नि परीक्षा तो तब होगी जब यह रिपब्लिकन पार्टी के बहुमत वाली सीनेट मे पेश होगा जहां राष्ट्रपति की पार्टी का दबदबा है.

ट्र्म्प को राष्ट्रपति  पद से हटाने के लिए 100 सदस्यीय सीनेट में दो-तिहाई बहुमत जरूरी होगा और अब तक किसी भी राष्ट्रपति को बहुमत से हटाया नहीं जा सका है और इस बार अमेरिका में नया इतिहास रचे इसके लिए जरूरी है कि सत्ता पक्ष के कुछ सदस्य विपक्षियों के पाले में चले जाएं जो कतई आसान नहीं होगा.

महाभियोग चलाने की मंजूरी मिलने के  कुछ घंटे पहले ही ट्रंप ने छह पन्नों के अपने संदेश में जनता से कहा है कि   मतदाता अगले साल मतदान करेंगे तब डेमोक्रेटों को अपनी कोशिशों पर पछतावा होगा.

ट्रम्प पर यूक्रेन की मदद से   2020 के आम चुनावों में अपने प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन को बदनाम करने की साजिशें रचने का आरोप है.

 

Spread the love

Leave a Comment