Share
तेजस लड़ाकू जहाज भी शो पीस बन गए…

तेजस लड़ाकू जहाज भी शो पीस बन गए…

दुर्भागय है कि देश में निर्मित और एच ए एल द्वारा बनाए गए हल्के लड़ाकू जहाज भी भारतीय वायुसेना के लिए शो-पीस बन गए हैं और उनकी यह स्थिति अगले दो साल तक तो बनी ही रहेगी क्योंकि इन्हें उड़ाने के लिए प्रशिक्षण ही 2021 से पहले शुरु हो पाने की उम्मीद ही नहीं है.

भारतीय वायुसेना के पास एचएएल (हिन्दुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड) द्वारा बनाए गए 11 विमान हैं और पांच विमान उसे और इसी मार्च तक मिलने जा रहे हैं पर इन एक  सीटर  विमानों को चलाने का प्रशिक्षण देने में इस्तेमाल होने वाला दो सीटर ट्रेनिंग विमान वायुसेना के पास नहीं है.

मीडिया रिपोर्टों की मानें तो ट्रेनिंग देने वाला यह जहाज एचएएल 2021 के बाद ही बनाना शुरु करेगा और उसके बाद ही ये भारतीय वायुसेना को मिल सकेगा.

अभी शो पीस बने इन जहाजो को चलाने का थोड़ा-बहुत अनुभव जिन पायलेटों के पास है वो भी उन्हें जुगाड़ से दिलाया गया है.

इनका प्रशिक्षण देने के लिए हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार वायुसेना के पाइलेटों को तमिलनाडु के सुलुरु से बेंगलुरु आना पड़ता है जहां तेजस का मूल जहाज और उपकरणों से युक्त विमान भारतीय रक्षा अनुसंधान परिषद के परिसर में खड़े हैं और वायुसेना इनका इस्तेमाल तभी कर सकती है जब ये खाली हों.

इन विमानों से प्रशिक्षण लेने के बाद भी इनमें और वास्तविक लड़ाकू जहाज तेजस में इतना अंतर है कि कोई भी बिना सही सही प्रशिक्षण के इन्हें युद्ध की स्थिति में उड़ा नहीं सकता.

Spread the love

Leave a Comment