Share
अयोध्या विवाद में मुस्लिम पक्ष के वकील को धमकाने पर सुप्रीम कोर्ट गम्भीर

अयोध्या विवाद में मुस्लिम पक्ष के वकील को धमकाने पर सुप्रीम कोर्ट गम्भीर

अयोध्या विवाद में कोर्ट परिसर के भीतर और बाहर मुस्लिम पक्ष के वकील को धमकाने और यूपी के एक मंत्री द्वारा सुप्रीम कोर्ट को हिन्दुओं का बताए जाने को मामले की सुनवाई कर रही शीर्ष अदालत की बेंच ने खासी गम्भीरता से लिया है.

मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने कोर्ट को बताया कि अदालत परिसर में उनकी टीम के क्लर्क को धमकी दी गई है और उन्हें खुद भी पहले धमकियां मिलती रही हैं, ऐसे माहौल में वो अदालत में मुस्लिमों का पक्ष कैसे रख सकते हैं.

उनका कहना था कि उन्हें खुद भी 88 साल के चेन्नई के एक प्रोफेसर एन शनमुगम ने 14 अगस्त को पत्र लिखकर उनपर हिन्दुओं से विश्वासघात करने और अपनी करनी की सजा भुगतने की धमकी दी थी जिसे लेकर वो अवमानना याचिका दाखिल कर चुके हैं पर इस तरह की धमकियों को लेकर वो कितनी अवमानना याचिकाएं दाखिल कर सकते हैं.

वकील राजीव धवन का कहना है कि यूपी के एक वकील के इस सार्वजनिक बयान के बाद कि अयोध्या भी हिन्दुओं का है मंदिर भी और सुप्रीम कोर्ट भी तो फिर किस तरह इस मामले पर निष्पक्ष बहस हो सकती है.

इस पर कोर्ट के बाहर दिए गए बयानों पर हम अभी कुछ नहीं कर रहे पर हम ऐसे सभी बयानों की निन्दा करते हैं और हमें आश्चर्य है कि देश में ये क्या हो रहा ऐसा नहीं होना चाहिए.

Spread the love

Leave a Comment