Share
भाजपा को झटका, सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या सुनवाई 2019 तक टाली

भाजपा को झटका, सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या सुनवाई 2019 तक टाली

भाजपा को तगड़ा झटका देते हुए  सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर बनाम बाबरी मस्जिद की सुनवाई जनवरी 2019 तक के लिए  टाल दी है.

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के नेतृत्व में  बनी तीन जजों की नई बेंच ने मात्र 3 मिनट की सुनवाई में इसे अब जनवरी, 2019  में अगली बार सुनने का फैसला सुना दिया .

अब  करीब 3 महीने बाद ही शीर्ष अदालत इस पर कोई बहस सुनेगा कि  अयोध्या की विवादित भूमि को तीनों दावेदारों में बांटने का इलाहाबाद हाईकोर्ट का 2010 में दिया गया फैसला ठीक है या नहीं.

सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि ये मामला अर्जेेंट सुनवाई के तहत नहीं सुना जा सकता है.

गौरतलब है कि अयोध्या भूमि विवाद  में हाई कोर्ट की तीन सदस्यीय पीठ ने 30 सितंबर, 2010 को 2:1 के बहुमत वाले फैसले में कहा था कि 2.77 एकड़ जमीन को तीनों पक्षों- सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला में बराबर-बराबर बांट दिया जाए पर इस फैसले को किसी भी पक्ष ने नहीं माना और उसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है.

सुप्रीम कोर्ट ने 9 मई 2011 को इलाहाबाद हाईकोर्ट के इस फैसले पर रोक लगा दी थी.

Spread the love

Leave a Comment