Share
संतों का एलान, छह दिसम्बर के बाद शुरु कर देंगे मंदिर-निर्माण

संतों का एलान, छह दिसम्बर के बाद शुरु कर देंगे मंदिर-निर्माण

विश्व हिंदू परिषद ने अयोध्या में राम मंदिर के पक्ष में माहौल बनाते हुए ऐलान कर दिया है  अदालत का फैसला आए या न आए, सरकार कानून बनाए या न बनाए इसी साल  6 दिसम्बर के बाद कभी भी कारसेवा शुरु कर दी जाएगी.

हालांकि इस बैठक में संतो ने मोदी सरकार को जमकर कोसा पर विहिप के नए अध्यक्ष आलोक कुमार ने उम्मीद जाहिर की कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला मंदिर के पक्ष में ही आएगा.

इसके साथ ही उनका यह भी कहना है कि सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरु होने के ठीक पहले इस तरह की बैठक करना न तो अदालत पर दबाव बनाने की कोशिश है और न ही सरकार से मंदिर निर्माण के लिए कानून बनानेे की मांग करना अदालती कार्रवाई को प्रभावित करना.

बैठक के बाद संतो की उच्चाधिकार समिति के सदस्य रामविलास वेदांती ने साफ कर दिया कि 6 दिसम्बर तक अगर संसद में कानून नहीं बना तो संत समाज खुद मंदिर बनाना शुरु कर देगा.

संतों ने तय किया है कि अक्टूबर में सभी राज्यो में राज्यपालों को   ज्ञापन  दिया जाएगा और  नवम्बर में सांसदों  का घेराव करके उन्हें राम  मंदिर पर कानून की याद दिलाई जाएगी.

फिर भी अगर कुछ न हुआ तो  दिसंबर में मंदिर, मठों, गुरुद्वारों में बैठके करके कारसेवा शुरू  कर दी जाएगी और इसके पहले तीन और चार नवम्बर को देश भर से तीन हजार  संत दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में जुटेंगे.

मोदी सरकार की सुस्ती से परेशान संतो का कहना था कि सरकार ने राम मंदिर निर्माण के लिए कोई कोशिश नही की और इसके लिए सीधे सीधे नरेन्द्र मोदी जिम्मेदार हैं.

संत हंसदेवाचार्य का कहना था कि कोई भी पूजास्थल कहीं भी बन सकता है पर  श्रीराम का जन्म स्थान तो  नहीं बदल सकता तो महामंडलेश्वर अनुभूतानंद  मे कहा कि केंद्र और 22 राज्यों में भाजपा सरकार होने के बाद भी मंदिर न बने तो इसका मतलब क्या है.

स्वामी चिन्मयानंद ने कहा कि अब संत यह बहाना सुनने को तैयार नहीं हैं कि राज्यसभा में  बहुमत नहीं है क्योंकि सरकार चाहे तो संसद के संयुक्त अधिवेशन में कानून पारित करा सकती है.

महामंडलेश्वर विश्वेशरानंद, रामानुजाचार्य कृष्णा चार्य महाराज, महामंडलेश्वर विशोकानन्द, श्यामसुंदर दास जी महाराज, राम भद्राचार्य महाराज, वासुदेवानन्द सरस्वती आदि संतों ने इस बैठक में विचार व्यक्त किए.

संतों ने एक बार फिर राम मंदिर के साथ ही गौ रक्षा  कानून बनाने, धारा 370 हटाने और समान नागरिक संहिता लागू करने की भी मांग की.न

 

Spread the love

Leave a Comment