Share
राहुल गांधी ने दी नरेन्द्र मोदी को पांच मिनट की खुली बहस की चुनौती

राहुल गांधी ने दी नरेन्द्र मोदी को पांच मिनट की खुली बहस की चुनौती

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पांच मिनट की खुली बहस की चुनौती देते हुए कहा है कि देश के सामने उनकी सच्चाई उजागर हो चुकी है इसलिए पांच मिनट भी वो उनका सामना नहीं कर सकते.

दिल्ली में कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के सम्मेलन में बोलते हुए उन्होंने कहा कि यह मोदी जी पांच साल पहले जब सत्ता में आए तो उनका ग्राफ बहुत ऊंचा था, उनके लोग कहते थे कि वो अगले पंद्रह साल तक रहेगे, उनका सीना 56 इंच का है पर उनसे पांच साल से लड़ते लड़ते मैं और कांग्रेस पार्टी जान चुकी है कि वो मूलतः कमजोर और डरपोक हैं और डोकलाम की घटना के बाद जिस तरह विशेष विमान से चीन जाकर उन्होंने वहां हाथ जोड़े उससे तो साबित हो गया कि उनका सीना तो चार इंच का भी नहीं है.

राहुल गांधी का कहना है कि यही वजह है कि 2014 में अच्छे दिन आने वाले हैं का नारा लगाने वाले भी अब खामोश हो चुके हैं और पूरे देश में इस समय चौकीदार चोर है का नारा लग रहा है.

उन्होंने कहा कि चाहे हरित क्रांति हो या श्वेत क्रांति या मनरेगा हो या भोजन का अधिकार सभी कांग्रेस की ही देन हैं क्योंकि हम मानते हैं कि देश सबका है और संविधान से ऊपर कोई नहीं जबकि मोदी एंड पार्टी की नजर में नागपुर का फरमान संविधान से ऊपर है और उनका मकसद देश की सभी संवैधानिक संस्थाओ पर कब्जा करना है.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जब मोदी जी अपने दोस्त उद्योगपतियों को लाखों करोड़ रुपए दे सकते हैं तो कांग्रेस पार्टी ने छह महीने के मंथन के बाद तय किया है कि वो कश्मीर से कन्याकुमारी तक सभी गरीबो के खाते में हर महीने एक निश्चित रकम डालेगी ताकि वो गरीबी के अभिशाप से मुक्त होकर अपना और विकास करने की इच्छा शक्ति पैदा कर सकें क्योंकि देश लोगों से ही बनता है.

Spread the love

Leave a Comment