Share
पाकिस्तान के ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर बवाल, भारत चिंतित

पाकिस्तान के ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर बवाल, भारत चिंतित

जबरिया धर्मांतरण के एक मामले को लेकर पहली बार सिखों के प्रथम गुरु नानक देव की जन्म स्थली ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर एक उग्र भीड़ ने दोपहर प्रदर्शन किया जिसकी वजह से पहली बार गुरुद्वारे के भीतर का भजन कीर्तन का कार्यक्रम रद्द करना पड़ा.

जन्म स्थान गुरुद्वारे पर हुए इस उपद्रव को लेकर भारत सरकार और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने पाकिस्तान से धार्मिक स्थलों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की अपील करते हुए श्रृद्धालुओं को पूरी तरह हिफाजत देने की मांग की है.

वैसे पाकिस्तान सरकार ने देर शाम दावा किया है कि सभी प्रदर्शनकारियों को समझाबुझाकर वापस भेज दिया गया है और अब तनाव का कोई माहौल नहीं है पर यह भी सच है कि महिलाओं बच्चों की भागेदारी वाले इस प्रदर्शन में कुछ शरारती लोगो ने ननकाना साहिब का नाम बदलकर गुलाम अली मुस्तफा नगर रखने और कट्टरपंथी सिखों को यहां से भगा देने की मांग भी कर डाली और इसे लेकर जमकर पथराव किया गया.

दरअसल सारा बवाल 19 साल की गुरुद्वारे के इस ग्रंथी की पुत्री  को जबरिया मुसलमान बनाने का आरोप झेल रहे एहसान नाम के एक युवक की तरफदारी में किया गया.

इस युवक को पाकिस्तान पुलिस ने गिरफ्तार किया था और इसके खिलाफ बेमियादी धरने से शुरु हुए इस आंदोलन में लोगोंं ने दावा किया कि एहसान को परेशान करने में गुरुद्वारा नानकाना साहिब के लोगों का हाथ है जबकि धर्मांतरण करने वाली युवती खुद लिखकर दे चुकी है कि उसने अपनी मर्जी से इस्लाम धर्म अपनाया है.

Spread the love

Leave a Comment