Share
प्रियंका गांधी के पहले रोड-शो में सैलाब की तरह उमड़े लोग

प्रियंका गांधी के पहले रोड-शो में सैलाब की तरह उमड़े लोग

लखनऊ के अमौसी हवाई अड्डे से कांग्रेस के माल एवेन्यू स्थित राज्य मुख्यालय तकपहुंचने के लिए दोपहर बाद से शुरू हुआ कांग्रेस की नई महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा का पहले रोड शो ही लोगों  को सैलाब  की तरह खींच लाया है और यही वजह है कि  12 किमी. लम्बे इस रास्ते को तय करने में ही उन्हें चार से पांच घंटे तक का समय लग जाएगा.

वैसे उनके साथ कांग्रेस अध्यक्षल राहुल गांधी और दूसरे महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया भी हैं पर सबके आकर्षण का केंद्र प्रियंका ही हैं जिनसे कांग्रेसी इंदिरा गांधी की तरह चुनावो से ठीक पहले चमत्कार करने की उम्मीद लगाए हैं तो सड़क पर मौजूद आम आदमी उन्हें करीब से देखकर सुनिश्चित करना चाहती है कि  वो इंदिरा गांधी से किस हद तक मिलती है.

एक बस पर अन्य कांग्रेसी नेताओ के साथ सवार प्रियंका अपने बिंदास अंदाज में सड़क पर खड़े लोगों से दूरी के बाद भी सीधा-संवाद कायम करने की कोशिश में किसी को माला फेंक कर देने का इशारा कर रही है तो किसी की फेंकी हुई फूलों की माला उसे प्रणाम के साथ वापस फेंक कर लौटा रही है.

वैसे राहुल गांधी जनता को पीएम मोदी के कथित भ्रष्टाचार की याद दिलाते रहने के लिए राफेल का माडल लेकर आए हैं तो कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने भी पूरे रास्ते को प्रियंका, राहुल और ज्योतिरादित्य के पोस्टरों के साथ ही राफेल पर गले लगते मोदी और अनिल अम्बानी के पोस्टर भी लगाकर पाट दिया है.

इस रोड शो में प्रियंका गांधी अमौसी से चारबाग, लालबाग, हजरतगंज, स्टेडियम होते हुए शहर के एक बड़े हिस्से का चक्कर लगाकर माल एवेन्यू स्थित कांग्रेस मुख्यालय पहुंचेगी.

इस बीच रास्ते में एक-दो जगह वे लोगों को नुक्कड़ सभा की तरह सम्बोधित भी कर सकती है.

बताया जा रहा है कि कांग्रेस दफ्तर में प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया तीन दिनों तक रहकर कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोलेगे.

उल्लेखनीय  है कि प्रियंका गांधी को यूपी का 48 और सिंधिया को 32 सीटों का प्रभारी बनाया गया है और यही दोनों पार्टी के उम्मीदवारों के नाम तय करेगे और पहली बार सम्भावित दावेदारों के बारे में कांग्रेस से जुड़ी आम जनता से फीड बैक लेकर ही उम्मीदवारों की घोषणा की जाएगी.

अभी तक घोषित कार्यक्रम के अनुसार प्रियंका गांधी 12 फरवरी को  मोहनलालगंज , उन्नाव, वाराणसी, गोरखपुर, कौशांबी, फूलपुर, इलाहाबाद, चंदौली, गाजीपुर, धौरहरा, फतेहपुर और लखनऊ के कार्यकतार्ओं के साथ बैठक करेंगी तो 13 फरवरी को वे  बाराबंकी, कैसरगंज, बहराइच, बांसगांव, देवरिया, डुमरियागंज, कुशीनगर, संत कबीरनगर, महाराजगंज, फैजाबाद, श्रावस्ती, गोण्डा और बस्ती और 14 फरवरी को  सीतापुर, सलेमपुर, घोसी, आजमगढ़, लालगंज, मछलीशहर, जौनपुर, रॉबट्र्सगंज, मीरजापुर, भदोही, अंबेडकर नगर, बलिया और मिश्रिख के कार्यकतार्ओं से सीधे बातचीत करेंगी.

 

Spread the love

Leave a Comment