Share
एक और सर्जिकल स्ट्राइक से बाल-बाल बचा पाक पर खतरा टला नहीं

एक और सर्जिकल स्ट्राइक से बाल-बाल बचा पाक पर खतरा टला नहीं

भारत ने आतंकवादी गतिविधियों को मिल रही वित्तीय मदद को आधार बनाकर पाकिस्तान के खिलाफ एक और सर्जिकल स्ट्राइक करने की कोशिश की पर अपने कुछ साथी देशों की मदद से इस बार वह खुद को बचाने में कामयाब भले हो गया हो पर सुकून से सांस लेने की हैसियत में वो अभी भी नहीं पहुंचा है.

भारत  ने पूरी कोशिश की आतंकवादियों को धन मुहैय्या कराने में मददगार साबित होने वाले पाकिस्तान को इस पर निगरानी रखने वाली अंतर्राष्ट्रीय संस्था  फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स के जरिए पूरी दूनिया में चिन्हित कराकर उसे काली सूची में डलवा दिया जाए ताकि जबरदस्त आर्थिक बदहाली झेल रहे इस पड़ोसी की मिलने वाली मदद रोककर उसकी कमर ही तोड़ जा सके.

पाकिस्तान को फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स  का काली सूची में डालने का समर्थन अमेरिका और ब्रिटेन  ने भी किया और सबसे  महत्वपूर्ण यह रहा कि हमेशा उसके लिए ढाल बनने वाले चीन के साथ ही तुर्की और मलयेशिया की मदद से वह इस खतरे को अक्टूबर तक टालने में सफल रहा.

अब पाकिस्तान को अंतिम तौर पर समय दिया गया है कि आतंकियों की आर्थिक मदद के रास्ते बंद करने के लिए उठाए जाने वाले कदम वो अगले तीन महीने में उठा ले नहीं तो पेरिस में होने वाली अगली बैठक में उसे काली सूची में डालकर किसी भी देश को उसकी मदद करने से रोक दिया जाएगा.

वैसे पाकिस्तान इस संस्था की ग्रे सूची मेें ही जिससे उसे मोटे अनुमान के अनुसार हर साल कोई दस खरब डालर की विदेशी मदद का नुकसान हो रहा है.

वैसे इससे पहले भी पाकिस्तान 2011 मे  भी ग्रे सूची में डाला जा चुका है जहां से 2015 मेंं ही वह बाहर आया था .

उल्लेखनीय है कि कुल 38 देश इस अंतर्राष्ट्रीय संस्था के सदस्य है और

Spread the love

Leave a Comment