Share
क्या सोशल मीडिया पर झूठ बोलने की कोई सीमा नहीं……

क्या सोशल मीडिया पर झूठ बोलने की कोई सीमा नहीं……

सोशल मीडिया पर पिछले हफ्ते पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के 87 वें जन्म दिन पर उनका केक काटते हुए एक वीडियो शेयर किया गया जिसमें उन्होंने और कांग्रेस नेता राहुल गांधी दोनों ने एक साथ चाकू पकड़ रखा है और वो केक काट रहे हैं.

इस फोटो और वीडियो को एक भाजपा समर्थक महिला ने इस कमेंट के साथ ट्विटर और फेसबुक दोनों जगह शेयर किया है कि बिना राहुल गांधी की अनुमति मिले और उनका हाथ लगे मनमोहन सिंह को अपना बर्थ-डे केक काटने की भी इजाजत नहीं है तो ये आसानी से समझा जा सकता है कि ऐसे शख्स ने दस साल तक सरकार किस तरह और कितने दबावो में चलाई होगी.

एक बार ये फोटो और वीडियो शेयर हुआ तो तमाम भाजपा समर्थकों को जैसे कांंग्रेस की खिल्ली उड़ाने का नया हथियार मिल गया और उन्होंने इसे इतना शेयर किया कि ये वायरल हो गया.

पर एक दो दिन बाद ही जब इस फोटो और वीडियो की सच्चाई सामने आई तो यह बात पुख्ता हो गई कि सोशल मीडिया पर कोई भी झूठ और कितना बड़ा भी झूठ बोलने की पूरी आजादी है और अगर वो लोगों को पसन्द आ गया तो आपका झूठ सुपर हिट भी हो सकता है.

बाद में पता चला कि जिस वीडियो को डा. मनमोहन सिंह के जन्म दिन का केक काटने वाला बताया जा रहा है वो तो दरअसल कांग्रेस के स्थापना दिवस समारोह का है जब राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष थे और उन्होंने इस मौके पर काटा जाने वाला केक डा. मनमोहन सिंह के सामने रख दिया था पर डा.सिंह के आग्रह पर इसे दोनो ने मिलकर काटा था.

उस समय केक काटने की यह तस्वीर और वीडियो कांग्रेस नेता शशि थरूर ने सोशल मीडिया पर साझा भी की थी जिसे अब संदर्भ बदलकर भाजपा के लोगोंं ने अपनी मनगढ़ंत व्याख्या के साथ वायरल कर दिया है.

Spread the love

Leave a Comment