संपत्ति विवाद में झूठा दावा करने पर दो लाख का जुर्माना

दिल्ली की एक अदालत ने संपत्ति विवाद का झूठा मुकदमा दायर करने वाले  शख्स पर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।

अदालत ने कहा है कि अगर इस तरह के फर्जी दावे  न्याय व्यवस्था को दूषित करते हैं और इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती। 

दिल्ली के अतिरिक्त वरिष्ठ दीवानी न्यायाधीश किशोर कुमार ने इस व्यक्ति को नोटिस जारी करके पूछा है कि झूठा दावा करने पर  उसके खिलाफ क्यों ना मुकदमा दर्ज किया जाए।

इस व्यक्ति ने मुकदमा दायर करके के दावा किया था कि 1989 में उसके पिता के निधन के बाद वारिसों में मौखिक रूप से संपत्ति का बंटवारा हुआ था।

दिल्ली के मोती नगर इलाके में एक संपत्ति उसकी मां के नाम पर थी और यह सहमति बनी थी कि उनके निधन के बाद यह संपत्ति उसे मिलेगी पर अब भाई फर्जी कागज़ तैयार करके उसे हड़पना चाह रहा है।

Subscribe to our Newsletter