Share
भाजपा अब ढलान परः महाराष्ट्र चौथा बड़ा राज्य जिसे पार्टी ने गंवाया

भाजपा अब ढलान परः महाराष्ट्र चौथा बड़ा राज्य जिसे पार्टी ने गंवाया

भाजपा के लिए अब 2014 जैसा माहौल नहीं रहा जब मोदी लहर पर सवार यह पार्टी एक के बाद एक राज्यों में फतेह का झंडा गाड़ती चली जा रही थी और कुल सात राज्यों की पार्टी ताकत बढ़ाते-बढ़ाते 22 राज्यों तक फैल चुकी थी.

लेकिन अब भाजपा के लिए न मोदी लहर सरकार बनाने के लिए बहुमत जुटाने की गारंटी रह गया है  और न ही भाजपा के चाणक्य बनकर उभरे अमित शाह के पास ऐसे तीर बचे हैं जो दूसरे दलों के इरादों को ध्वस्त कर सकते हों.

देखा जाए तो राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश के बाद चौथा ऐसा बड़ा राज्य है जहां बेहद मजबूत रहने वाली भाजपा कर्नाटक की तरह अपमान  का घूंट पीकर सत्ता से बेदखल हुई है.

महाराष्ट्र में जिस तरह राज्यपाल ने बिना सरकार के स्थायित्व की गारंटी किए भाजपा के पिछले मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस को अचानक बिना किसी मजबूत आधार के शपथ दिला दी पर वो अपनी सरकार का बहुमत साबित करने के लिए जिस जोड़ तोड़ की उम्मीदें वो बांधे हुए थे उसकी इजाजत तो सुप्रीम कोर्ट ने विधानसभा के भीतर शक्ति परीक्षण का दिन तय करके नहीं दी जिससे  मात्र तीन दिनों के बाद ही इस्तीफा देना पड़ा.

काफी कुछ ऐसी ही फजीहत भाजपा नेे कर्नाटक में भी कराई थी जब वहां के राज्यपाल ने भी येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री की शपथ दिलाकर बहुमत साबित करने के लिए 15 दिनों का समय दे दिया था पर सुप्रीम कोर्ट ने आनन-फानन मे शक्ति परीक्षण के आदेश दे दिया जिससे येदियुरप्पा को इस्तीफा देना पड़ा था.

वैसे भाजपा ने अपनी पकड़ वाले इन राज्यों को खोकर लोगों को ये कहने का मौका तो दे दिया है कि अब न तो नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में वह चमक बनी हुई है जो पहले थी और न अमित शाह की शतरंजी चालें अब अजेय रह गई है.

नतीजा है कि 2017 में 22 राज्यों को अपने झंडे तले लाने वाली भाजपा अब 17 राज्यो में सिमट चुकी है जिसमें ज्यादातर तो बहुत छोटे राज्य हैं.

Spread the love

Leave a Comment