Share
मान के जिम्मे संसद में पूरी आम आदमी पार्टी और खड़गे ने पहली बार चखी हार

मान के जिम्मे संसद में पूरी आम आदमी पार्टी और खड़गे ने पहली बार चखी हार

पीएम मोदी के अंधड़ में आम आदमी  पार्टी का तम्बू कनात भले हीइस चुनाव में दिल्ली से पूरी तरह उखड़ गया हो पर  उसके नेता भगवन्त मान अपने पैर जमीन पर गड़ाए रहे और  अब अपनी पार्टी का वे संसद में अकेले ही प्रतिनिधित्व  करेगें.

वहीं नौ बार विधायक और दो बार सांसद रहे कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे इस बार अपने जीवन का पहला चुनाव हारे हैं और अभी भी उनके करीबी लोगों की भी समझ में नहीं आ रहा कि ये कैसे हो गया.

बहरहाल चुनाव जीतने के बाद आम आदमी पार्टी के भगवन्त मान ने मीडिया से जरूर कहा कि अगर मोदी आंधी है तो मै सुनामी हूं और  मैने साबित भी कर दिया है.

वैसे उनका भी कहना है कि मोदीजी की इतनी जीत गले  से उतर नहीं रही पर यह सच है कि हमारी पार्टी कुछ नहीं कर पाई है लेकिन आज में ऐलान करता हूं कि 2020 मेंं हम दिल्ली में फिर से सरकार बनाएंगे और पंजाब में भी अगली बार हमारी ही सरकार बनेगी… कांग्रेस को तो  जनता ने  आखिरी बार आजमाने के लिए चुना है.

दूसरी ओर कांग्रेस की चुनावी राजनीति में बेहद मजबूत माने जाने वाले कांग्रेस के  दलित नेता मल्लिकार्जुन खड़गे इससे पहले अपने जीवन में 11 चुनाव लड़े थे और कभी नहीं हारे थे पर इस बार भाजपा के प्रत्याशी ने उन्हें एक लाख से कुछ कम वोटों से हरा दिया है.

अजीब बात है कि भाजपा के टिकट पर उन्हे हराने वाले उमेश माधव भी पुराने कांग्रेसी हैं और इस चुनाव के पहले ही कांग्रेस छोड़कर भाजपा में गए थे और राजनीतिक रूप से वे खड़गे से काफी जूनियर भी माने जाते हैं.

Spread the love

Leave a Comment