Share
सफाई कर्मचारियों ने जारी किया  अपना घोषणा पत्रः मोदी से माफी मांगने की मांग

सफाई कर्मचारियों ने जारी किया अपना घोषणा पत्रः मोदी से माफी मांगने की मांग

सफाई कर्मचारियों के राष्ट्रीय संगठन सफाई कर्मचारी आदोलन ने पहली बार अपना घोषणा पत्र जारी करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा सफाई कर्मचारियों के पैर धोने को ढकोसला और चुनावी स्टंट करार देते हुए उनसे सिर पर मैला ढोने की प्रथा समाप्त करने के लिए कुछ भी न किए जाने पर देश से बिना शर्त माफी मांगने की मांग की है.

इस घोषणा पत्र में कहा गया है सारी राजनीतिक पार्टियों के एजेंडे से सफाई कर्मचारी बाहर हैं और अगर ऐसा रहा तो हमे अब झाड़ू छो़ड़कर कलम पकड़नी ही होगी

सफाई कर्मचारी आंदोलन के राष्ट्रीय संयोजक बेज़वाड़ा विल्सन  द्वारा दिल्ली मे जारी इस घोषणा पत्र में मांग की गई है कि संसद का विशेष सत्र बुलाकर सिर पर मैला ढोने के प्रथा समाप्त की जाए और सीवरों की सफाई मे होने वाली मौतो को रोका जाए.

इसके साथ ही घोषणा पत्र में साठ साल से ऊपर के सभी सफाई कर्मचारी को छह हजार रुपए की पेंशन देने की मांग की गई .

सफाई कर्मचारियों के इस संगठन का कहना है कि चाहे रेलवे जैसे सरकारी विभाग हों या घर सफाई कर्मचारी ही हाथों से मैला साफ करता है और आज तक इसके लिए मशीनों की व्यवस्था नहीं की गई

Spread the love

Leave a Comment