Share
नागरिकों की जासूसीः व्हाट्सऐप का दावा सरकार को  पता था, सरकार का इंकार

नागरिकों की जासूसीः व्हाट्सऐप का दावा सरकार को पता था, सरकार का इंकार

सरकारी दावों के विपरीत व्हाट्सऐप का कहना है कि उसने तो मई में ही भारत सरकार को बता दिया था कि उसके चालीस करोड़ यूजर्स में से तमाम लोगों की निगरानी इस्राइली साफ्टवेयर के जरिए की जा रही है पर सरकार ने इस ओर कोई ध्यान ही नही दिया.

उल्लेखनीय है कि व्हाट्सऐप ने  चार महाद्वीपों में कोई 1400 नागरिकों के फोन-काल्स की साफ्टवेयर के जरिए गैर-कानूनी निगरानी करने को लेकर इस्राइली जासूसी कम्पनी के खिलाफ मुकदमा दायर कर दिया है.

इस मेसेजिग प्लेटफार्म ने यह भी साफ कर दिया है कि भारत में जो लोग चुनाव के पहले इस तरह की जासूसी के शिकार हुए हैं उनमें पत्रकार, मानवाधिकार कार्यकर्ता या सरकार के आलोचकों की संख्या ही ज्यादा थी.

उधर व्हाट्सऐप की इन बातों को खारिज करते हुए केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आज ट्वीट किया है कि भारत सरकार ने न सिर्फ व्हाट्सऐप से नागरिकों की निजता का हर हाल में रक्षा करने को कहा है कि बल्कि उससे चार नवम्बर तो विस्तृत रिपोर्ट  तलब कर ली है.

Spread the love

Leave a Comment