Share
पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के परिजन भी अब गैर भारतीय

पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के परिजन भी अब गैर भारतीय

पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के परिजन भी अब असम में गैर भारतीय मान लिए गए हैं और  वे खुद को भारतीय नागरिकता साबित कर पातें हैं या नहीं यह भविष्य और उनकी किस्मत पर निर्भर रहेगा.

मौजूदा केंद्र सरकार की नेशनल रजिस्टर आफ सिटिजन(एनआरसी) की लिस्ट के अनुसार विदेशी बताकर भारत से बाहर किए जाने वाले असम के चालीस लाख से ज्यादा लोगों में जो विवादित नाम सामने आए हैं और जिन्होंने सबको आश्चर्यचकित किया है उनमें एक नाम  देश के पांचवे राष्ट्रपति रहे फखरुद्दीन अली अहमद के सगे भतीजे जियाउद्दीन अली अहमद उनके परिवार का है जो इस बात के सुबूत अब तक तो पेश नहीं उनका नाम 1951 में हुई देश की पहली जनगणना के बाद बने एनआरसी में शामिल था या उनके पूर्वज 1971 के पहले से भारत में रह रहे थे.

आश्चर्य यह है कि इसी परिवार से राष्ट्रपति बनने के साथ ही पेशे से किसान पचास साल के जियाउद्दीन के पिता एहतरामुद्दीन अली अहमद पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के सगे छोटे भाई और असम के पहले एमबीबीएस डाक्टर थे जो भारतीय सेना से कर्नल के पद से रिटायर हुए थे.

बहरहाल इस परिवार के पास अब सिर्फ जमीन का एक कागजात है जो 1971 के पहले का है और एनआरसी की अंतिम सूची अगले महीने 31 अगस्त को आनी है और अगर उसमें भी इस परिवार के दावों को मंजूर नहीं किया गया तो इनका क्या होगा कोई नहीं जानता.

 

Spread the love

Leave a Comment