Share
मरने से पहले बदहाल गोपाल दास नीरज ने मांगी थी इच्छा मृत्यु

मरने से पहले बदहाल गोपाल दास नीरज ने मांगी थी इच्छा मृत्यु

निश्चितरूप से बहुतों के लिए यह खबर चौकाने वाली हो सकती है कि जिस गीतकार गोपाल दास नीरज को साहित्यि  और फिल्मी दुनिया ने सिर पर बिठाया हो उसने अपनी मौत आने से पहले इच्छा मृत्यु दिए जाने की दरकार की हो.

स्वर्गीय नीरज की बेटी कुंडलिका शर्मा और अलीगढ़ के डीएम दोनों ने इस बात की पुष्टि की है कि मरने से पहले नीरज ने इच्छा मृत्यु के लिए इंजेक्शन दिए जाने की इजाजत मांगते हुए अलीगढ़ के जिला प्रशासन को पत्र लिखा था.

दरअसल 93 साल का यह साहित्यकार अपने बुढ़ापे से इतना परेशान हो चुका था कि उसके लिए घर के एक कमरे से दूसरे में जाना भी मुश्किल था.

बेटी के लिए भी पिता की यह नई जानकारी आश्चर्यचकित करने वाली है और वो कहती है कि हम सभी उन्हें बहुत जिन्दादिल इंसान मानते रहे हैं और पूरा परिवार उनकी सेवा में तत्पर रहता था फिर उन्होंने ऐसा क्यों किया समझ से परे हैं.

अलीगढ़ के डीएम ने माना कि गीतकार नीरज का यह पत्र उन्हें 16 जुलाई को मिला जिसे रजिस्टर्ड डाक से 11 जुलाई को भेजा गया था पर हम कुछ कर पाते इसके पहले ही वो इलाज के लिए आगरा जा चुके थे सो हमने वहां के चिकित्साधिकारी को फोन करके उनके इलाज की समुचित व्यवस्था करने को कह दिया था.

तंगहाली इतनी कि मरने से महज 22 दिन पहले बीमार नीरज को खुद लखनऊ आकर मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलना पड़ा ताकि उनकी य़शभारती की पेंशन बहाल हो जाए क्योंकि गीतों की रायल्टी से उनका काम नहीं चल रहा था पर दुर्भाग्य कि निजाम बदलने से बदले हालात उनकी कोई मदद नहींं कर सके.

Spread the love

Leave a Comment