Share
व्हाट्सऐप, इंस्टाग्राम और फेसबुक को लेकर झूठी खबरों की बाढ़

व्हाट्सऐप, इंस्टाग्राम और फेसबुक को लेकर झूठी खबरों की बाढ़

इन दिनों सोशल मीडिया पर लोगो के बीच फेसबुक, वहाट्सऐप और इंस्टाग्राम लेकर फर्जी खबरों की बाढ़ आई हुई है जिसमें किसी में यह कहा जा रहा है कि ये सोशल मीडिया प्लेटफार्म या तो अब सबके लिए मुफ्त में उपलब्ध नहीं रहेगे या फिर बताया जा रहा है कि किसी खास समय पर और निश्चित अवधि के लिए इन प्लेटफार्मों पर लोग न तो कोई फाइल डाउनलोड कर सकेंगे या अपलोड.

आश्चर्य है कि इस तरह की खबरों में कई  बार भारत सरकार या प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम का भी इस्तेमाल किया जा रहा है ताकि लोग इन अफवाहों पर भरोसा कर सकें जबकि इसका आधार सिर्फ इतना है कि एक खास दिन  तकनीकि कारणों से व्हाट्सऐप पर कुछ घंटों के लिए कोई फोटो न तो अपलोड हुई या न डाउनलोड और इसकी पुष्टि भी तब हुई जब व्हाट्सऐप ने खुद बताया कि इस अवधि में तकनीकि कारणों से उपभोगकर्ताओं को परेशानी हुई है पर इस खराबी को अब दूर किया जा चुका है.

लेकिन इसे लेकर अफवाहबाजों ने जो संदेश सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर फैलाने शुरु किए उनकी तो कोई सीमा ही नहीं रही जैसे एक संदेश में कहा गया कि मोदी सरकार ने व्हाट्सऐप  को रात साढ़े ग्यारह बजे से सुबह छह बजे तक बंद करने का निर्णय किया है और इसी पर अमल शुरू हो चुका है तो दूसरी पोस्ट में लोगों को यह लिखकर डराया गया कि इस सन्देश  को वो अगर  दस और लोगो तक नहीं भेजेंगे तो उनका व्हाट्सऐप अकाउंट अगले 48 घंटों में डिलीट कर दिया जाएगा.

एक संदेश में तो ये भी बता दिया गया कि अब व्हाट्सऐप हर महीने 499 रूपयों का किराया देकर ही चलाया जा सकेगा.

सच्चाई है कि पूरी दुनिया में फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सऐप ने कुछ समय के लिए एक साथ काम करना लगभग बंद सा कर दिया था पर इसकी वजह सर्वर की खराबी थी जिसका खुलासा करने के लिए फेसबुक जैसी कम्पनी को ट्विटर का सहारा लेना पड़ा था जिसके लिए वो ट्रोल भी हुई थी.

अब हालांकि दस दिन का समय बीत चुका है पर देश में सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर लोग इस तरह के संदेश लगातार अभी भी शेयर कर रहे हैं.

Spread the love

Leave a Comment