Share

सगाई ही टूट गई नीरव मोदी के नकली हीरों से

नीरव मोदी ने कनाडा के एक नागरिक पाल अलफान्सों को दोस्ती करके कोई दो खरब अमेरिकी डालर की दो नकली हीरे की अंगूंठियां उसकी सगाई के लिए बेच दीं लेकिन कुछ ही समय बाद उसकी मंगेतर को एक अन्य जौहरी से पता चला कि दोनों अंगूठियों के हीरे नकली हैं तो उसने सगाई ही तोड़ दी.

एक पेमेन्ट बैंक के अति वरिष्ठ अधिकारी पाल ने अपनी यह दुख भरी दास्तान चीन के प्रमुख पत्र साउथ चाइना मार्निंग पोस्ट से साझा की है कि वह किस तरह दोस्ती की आड़ में ठगा गया और उसने तो पूरी ईमानदारी से मंहगे से मंहगे हीरे की अंगूठियां खरीदीं पर भारत के नीरव मोदी की वजह से उसकी मंगेतर और उसके घरवाले अब भी मानते हैं कि उसने ही नकली हीरों से जिन्दगी का सबसे महत्वपूर्ण दांव खेलने का दुसाहस किया.

पाल अलफान्सों के अनुसार उसकी नीरव मोदी से मुलाकात 2012 में मशहूर बेवरली हिल्स होटल के शताब्दी समारोह में हुई थी और उसके बाद हुई कई मुलाकातों में खुद को उसके बड़े भाई जैसा बताते हुए नीरव ने उससे अच्छे रिश्ते कायम कर लिए थे.

इसी साल अप्रैल में उसने नीरव मोदी को एक ईमेल करके लिखा की वह अपनी मंगेतर के लिए खुद डिजाइन की हुआ हीरे की अंगूठी चाहता है और उसका बजट कोई एक एक लाख डालर है… तो क्या वह इसमें उसकी कोई मदद कर सकता है.

पाल के अनुसार उसी शाम नीरव मोदी का जवाब आ गया कि उसके पास छोटे भाई जैसे शख्स के लिए एक लाख बीस हजार अमेरिकी डालर की वाली 3.2 कैरेट हीरे की नायाब अंगूठी है जो वो उसे थोक के रेट मेंं ही दे देगा.

खुश होकर इस कनेडियाई शख्स ने नीरव से वो अंगूठी तो मंगाई ही साथ ही एक औकर अंगूठी भी इससे कुछ कम कीमत की मंगा ली और दोनों ही अंगूठियां मंगेतर को दे दी जिससे वो और उसके घरवाले उसकी रईसी से आश्वस्त हो गए.

इस शख्स का कहना है कि अन अंगूठियों के  साथ हीरे के असली होने का प्रमाणपत्र भी नीरव मोदी को देना था पर एक नहीं दर्जनों ई मेल करने पर भी उसने उसे नहीं भेजा लेकिन क्योंकि भारत में उसके कारनामों से वो अंजान था इसलिए उसे मोदी पर कोई शक भी नहीं हुआ.

लेकिन मंगेतर की इस जिद पर कि इतनी मंहगी अंगूठियों का बीमा कराना जरुरी है और बीमे के लिए उसके प्रामाणिकता और कीमत का सर्टिफिकेट जरुरी था तो वो एक अन्य जौहरी के पास ये लेने गए तो उसने जांच करने के बाद बाकायदा प्रमाण पत्र दे दिया कि अंगूठियों में लगे हीरे नकली हैं और इनकी कोई कीमत ही नहीं है.

पाल का कहना है कि इसके बाद तो उस पर जैसे पहाड़ ही टूट पड़ा क्योंकि एक ओर तो आर्थिक  नुकसान हुआ और दूसरी ओर मंगेतर के घरवालों ने भी उसे ही गलत समझा.

Spread the love

Leave a Comment