Share
मंदी ने फोर्ड कम्पनी के भारत से पैर उखाड़े

मंदी ने फोर्ड कम्पनी के भारत से पैर उखाड़े

दुनिया में कार बनाने वाली सबसे बड़ी कम्पनियों में से एक फोर्ड ने अब भारत में अपने बूते अकेले पैर जमाने का इरादा छोड़ दिया है और बहुत सम्भावना है कि जल्दी ही अपनी सारी सम्पत्तियां वो देश की एक अन्य बड़ी कार कम्पनी महिन्द्रा के हवाले करके उसके  नेतृत्व में काम करना शुरु कर  दे.

हालांकि बिजनेस से जुड़ी वेबसाइट और रियूटर जैसी समाचार एजेंसी काफी पहले से इस तरह की अटकलों को गम्भीरत से ले रही थी पर फोर्ड ने खुद कुछ दिन पहले एक बयान जारी करके इस पर रोक लगाने की कोशिश की थी.

फोर्ड ने इसी महीने जारी अपने  बयान में दावा किया था कि दुनिया के सबसे बड़े कार बाजार भारत में अपने व्यवसाय के विस्तार को लेकर वो आश्वस्त है इसलिए इस तरह की खबरों में कोई दम नहीं है कि वो भारत में अपना कारोबार समेट रही है.

लेकिन कार बिक्री के जो आंकड़े सामने आए हैं उसने फोर्ड के इस दावे की हवा निकाल दी है क्योंकि अगस्त 2019 तक फोर्ड की कुल 5517 कारें बिकी हैं जबकि इससे पिछले साल इसी समय तक आठ हजार कारें बिकी थी.

शायद इन्ही आंकड़ो को देखते हुए फोर्ड अब भारत में महिन्द्रा के साथ संयुक्त उपक्रम बनाकर काम करने के लिए तैयार हो गई है जिसमे 51 फीसदी शेयरों के साथ नियंत्रण महिन्द्रा कम्पनी का होगी और अब ये डील हफ्ते-दस दिन में ही सामने आ सकती है.

Spread the love

Leave a Comment