Share

जेएनयू छात्र नजीब की गुमशुदगी का मामला दफन होगा ?

देश की सबसे तेज मानी जाने वाली जांच एजेंसी जवाहर नेहरू यूनिवर्सिटी के रिसर्च स्कालर को तलाशने में बिलकुल फिसड्डी साबित हुई और दो साल  में भी इस छात्र का पता लगाने में नाकाम रहने के बाद दिल्ली उच्च न्यायालय ने आज इस मामले में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल करने की इजाजत इस एजेंसी को दे दी है.

नजीब को न ढूंढ पाने वाली सीबीआई ने अदालत में यह दावा जरुर किया कि इस आरोप के पक्ष में उसे कोई सुबूत नहीं मिला है कि गायब होने से पहले नजीब के साथ ंमारपीट की गई थी या उसे परेशान किया गया था.

क्लोजर रिपोर्ट की अनुमति देने के साथ ही दिल्ली उच्च न्यायालय ने नजीब की मां फातिमा नफीस द्वारा दायर किए गए केस को भी यह कहते हुए समाप्त कर दिया कि वो चाहे तो इसे अब ट्रायल कोर्ट मेंं ले जा सकती है जहां सबसे पहले यह मामला उठाया गया था.

इस फैसले के बाद नजीब की मां ने कहा कि बेटे को तलाशने के लिए जजों की कमेटी की देखरेख में जांच कराने की मांग पर वो अभी भी कायम है पर शायद अब सुप्रीम कोर्ट जाना ही पड़ेगा.

Spread the love

Leave a Comment