Share
कांग्रेस नहीं रही भाजपा जैसी शाह -खर्च पार्टी

कांग्रेस नहीं रही भाजपा जैसी शाह -खर्च पार्टी

सत्ता से बाहर होने के बाद कांग्रेस अब भाजपा जैसी शाह-खर्च पार्टी नहीं रही और चुनाव का खर्चा उठाने के लिए पार्टी में चौतरफा कटौतियों का दौर शुरू हो चुका है.

कांंग्रेस ने बचत करने के लिए अपने नेताओं के हवाई दौरो पर पूरी तरह रोक लगा दी है और सारे नेताओं से हवाई जहाज की जगह ट्रेन से चलने के लिए कहा गया है.

पार्टी ने फरमान जारी कर दिया है कि 4 सौ किमी से कम दूरी का सफर  नेता या तो अपने खर्च पर करें या फिर ट्रेन से कम से कम खर्च में और पार्टी सचिवों को भी केवल हवाई जहाज से सफर करने का किराया एक महीने में सिर्फ दो बार ही मिलेगा.

निर्देशो में कहा गया है कि पार्टी हित में नेता दफ्तर के भीतर के खर्चों मसलन चाय-काफी और  नाश्तों को भी काफी सीमित करें ताकि प्रभावी तरीके से चुनाव लड़ा जा सके.

कांग्रेस ने 9 अक्टूबर को जारी पत्र में कहा है कि यह नेताओं की जिम्मेदारी है कि वह जितनी ज्यादा से ज्यादा बचत कर सकें करें क्योंकि यह बचत ही हमारी चुनाव के लिए पूंजी बनाएगा.

Spread the love

Leave a Comment