Share
179 देशों ने तय कियाः कोका कोला प्लास्टिक प्रदूषण फैलाने में सिरमौर

179 देशों ने तय कियाः कोका कोला प्लास्टिक प्रदूषण फैलाने में सिरमौर

दुनिया में सबसे ज्यादा प्लास्टिक का कचरा फैलाने वाली कम्पनी है कोका कोला और उसे इस खिताब से नवाजा है 179 देशों ने इसी सितम्बर में चलाए गए विश्व शुद्धीकरण दिवस पर सत्तर हजार से ज्यादा वालंटियरों द्वारा एकत्र किए गए प्लास्टिक कचरे के विश्लेषण के बाद.

अब यह साफ है कि दुनिया में प्लास्टिक के कचरे के जो पहाड़ लगे हैं उनमें चालीस फीसदी कोका कोला के ही हैं और इस कचरे में पेप्सी, नस्ले से कोई दो से तीन गुने तक के सिंगल यूज प्लास्टिक कचरे का योगदान कोको कोला कम्पनी ही दे रही है.

प्लास्टिक कचरा कितनी बड़ी समस्या है इसे इसी से समझा जा सकता है कि श्रीलंका में सिर्फ एक समुद्री तट से एक दिन में ढाई सौ किला कचरा एकत्र किया गया और पुष्ट आंकड़े बताते हैं कि 1950 से अब तक जितनी भी प्लास्टिक का निर्माण किया गया है उसका कुल नौ फीसदी ही रीसाइकिल किया गया है और बाकी कचरे में रुप में ही हमारे आसपास कहीं पड़ा है.

जहां तक भारत की बात है तो देश में केद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार  प्रति दिन कोई 26 हजार टन प्लास्टिक का कचरा तैयार होता है जिसे घटाने की सरकारी कोशिशों का आलम यह है कि मौजूदा मोदी सरकार सिंगल यूज प्लास्टिक पर देश व्यापी ऐलान के बाद उसे अमल में लाने के ठीक पहले राजनीतिक कारणों से अपना फैसला वापस ले लेती है.

Spread the love

Leave a Comment