Share
कम नम्बर पाते हैं नाश्ता न करने वाले बच्चे

कम नम्बर पाते हैं नाश्ता न करने वाले बच्चे

एक ताजा अध्ययन बताता है कि बचपन से  माध्यमिक स्तर तक नाश्ता छोडने वाले बच्चे उनकी तुलना में स्कूल-कालेजों में कम नम्बर पाते हैं जो नियमित नाश्ता करते हैं.

इंग्लैंड के लीड्स  में हुए एक अध्ययन में बच्चों के नाश्ते और पढ़ाई में उनकी परफार्मेस के बीच रिश्ता तलाशने की कोशिश की गई है.

इस अध्ययन में करीब 294 बच्चों का अध्ययन किया गया जिसमें 29 फीसदी ऐसे थे जिन्होंने कभी नाश्ता नहीं किया जबकि 18फीसदी कभी कभी नाश्ता करते थे जबकि 53 फीसदी नियमित नाश्ता करने वाले थे.

स्कूल कालेजों में इनके प्रदर्शन का आकलन किया गया तो कभी नाश्ता नहीं  करने वाले कभी कभी नाश्ता करने वालों से फिसड्डी साबित हुए जबकि नियमित नाश्ता करने वालों के मुकाबले कभी नाश्ता करने वालों का प्रदर्शन कमजोर रहा.

 

Spread the love

Leave a Comment