Share
सीबीआई कामयाब हुई तो चिदम्बरम को हो सकती है सात साल तक की सजा

सीबीआई कामयाब हुई तो चिदम्बरम को हो सकती है सात साल तक की सजा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदम्बरम पर सीबीआई अगर अपने आरोप साबित करने में कामयाब होती है तो देश के पूर्व  वित्त और गृह मंत्री को वो सात साल तक के लिए सलाखों के पीछे भेज सकती है.

दसअसल सीबीआई  ने जिन मामलों को लेकर चिदम्बरम को गिरफ्तार किया है उसमें प्रीवेंशन आफ करेप्शन एक्ट की धारा आठ और 13(1)-डी भी शामिल है जिसमें किसी लोक सेवक पर अपने लिए या किसी और के लिए पद का दुरुपयोग करके अनुचित तरीके से धन कमाने या कमाने में मदद देने का मामला बनता है औ र इसमें सात साल तक की सजा का प्रावधान है.

चिदम्बरम को लेकर अब तक हाईकोर्ट और सीबीआई की विशेष कोर्ट का जो रुख रहा है उससे ये तो लगता ही है कि इस बार सीबीआई के जाल से निकलना कांग्रेस के इस नेता  के लिए आसान नहीं होगा और अब सीबीआई की कस्टडी में रहने के दौरान अगले चार दिनों में ये जांच एजेंसी अपना पक्ष और भी मजबूत कर  सकती है.

ऐसे में कांग्रेस के बड़े सरकारी वकील अगर इस नेता को जेल जाने से बचाने में कामयाब होते हैं तो ये कानून के जानकारों के लिए भी खासा दिलचस्पी भरा मामला होगा.

दिलचस्प बात यह भी है कि जिस सीबीआई दफ्तर में चिदम्बरम को गिरफ्तारी के बाद लाया गया उसका उद्घाटन बतौैर गृह मंत्री उन्होंने ही किया था.

वैसे यह तथ्य भी दलचस्प है कि जब गुजरात के शोहराबुद्दीन शेख की कथित फर्जी मुठभेड़ के मामले में सीबीआई ने देश के मौजूदा गृह मंत्री अमित शाह को गिरफ्तार किया था तब देश के गृहमंत्री पी चिदम्बरम ही थे.

Spread the love

Leave a Comment