Share

टीके से बचने के लिए बच्चों को चेचक से संक्रमित करा रहे हैं लोग

अमेरिका में कुछ  लोग टीकाकरण पर भरोसा न करते हुए बच्चों को चेचक से बचाने के लिए उन्हें खुद उसके  वायरस से संक्रमित करवा रहे हैं ताकि वो इस बीमारी के लिए प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर सके.

आश्चर्य की बात यह है कि इसी साल की शुरुआत से चालू हुए इस तरीके की लोकप्रियता  खासी बढ़ती जा रही है खासकर अमेरिका के कोलोराडो राज्य में जहां अब बाकायदा चिकन पाक्स पार्टियां आयोजित की जाने लगी हैं.

इन पार्टियों में लोग दुधमुंहे बच्चों को लेकर पहुंचते हैें और पहले से चेचक से पीड़ित किसी बच्चे के सम्पर्क में अपने बच्चे को लाते हैं ताकि उसे बीमारी का वायरस निशाना बना सके.

इसका एक तरीका यह भी कि बीमार बच्चे द्वारा सांस में निकाली गई हवा को एक गुब्बारेनुमा बर्तन में बंद किया जाता है जिसमें फिर उस बच्चे को सांस दिलवाई जाती है जिसमें चेचक के विषाणु पहुंचाने हैं.

हालांकि सरकार लगातार इन लोगों को यह समझाने की कोशिश कर रही है कि चेचक के टीके में जिन वायरस को बदन में डाला जाता है वो लगभग मरे हुए होते हैं और उनसे खतरा बहुत ही कम और फायदा ज्यादा है पर इन लोगों का तर्क है कि   टीके बनने से पहले 1995 तक तो लोग इसी तरीके का इस्तेमाल करते थे और यह सदियों से खरा साबित होता रहा है.

Spread the love

Leave a Comment