Share
बच्चियों से बलात्कार की सजा मुजरिम को नपुंसक बनाना, वो भी उसके खर्चे पर

बच्चियों से बलात्कार की सजा मुजरिम को नपुंसक बनाना, वो भी उसके खर्चे पर

अमेरिका में इन दिनों बलात्कारियों को दी जाने वाली सजा को लेकर एक बड़ी बहस छिड़ी हुई है क्योंकि वहांं के अलबामा प्रांत ने बच्चियों से बलात्कार करने वालों को आजीवन नपुंसक बना देने की अजीबो-गरीब सजा तय कर दी है.

इस राज्य में इसी सप्ताह से लागू हुए इस नए कानून के अनुसार 13 साल से कम की बच्चियों से बलात्कार के दोषी शख्स को जेल से छोड़ने के एक महीने पहले दवाओं के जरिए आजन्म नपुंसक बनाने की एक और सजा दी जाएगी और इसके लिए उसे जो दवाएं दी जाएगीं उसका खर्चा भी उसे ही उठाना होगा.

इस कानून को लागू करने के लिए  राज्य की विधायिका में पिछले महीने पारित एक बिल पर वहां के गवर्नर ने इसी सोमवार को दस्तखत कर दिए हैं और अब ये कानून लागू हो चुका है यानि बच्चियों से बलात्कार के मुजरिमों को सजा काटने के बाद जेल से बाहर आने से पहले एक और सजा दी जाएगी और वह यह कि जेल के आखिरी महीने में उन्हें ऐसी दवाएं देना शुरु होगा जिससे वे नपुंसक हो जाएं.

इस एचबी 379 कानून के तहत ये दवाएं उन्हें तब तक दी जाएंगी जब तक अदालत यह स्वीकार न कर ले कि उन्हें अब दवाओं की जरुरत नहीं है और इन दवाओं को लेने पर कोई एक हजार डालर प्रति माह का खर्चा आएगा जो सजायाफ्ता को ही भुगतना होगा.

अब जाहिर है अमेरिका जैसे प्रगतिशील देश में इस अजीब कानून की आलोचना करने वाले भी कम नहीं होंगे और पहली बात तो यही कही जा रही है कि एक बार जेल की सजा काट चुके शख्स को इस दूसरी सजा का मतलब एक जुर्म की दो बार सजा देना होगा साथ यह मानवाधिकारों के भी खिलाफ है क्योकि कानून किसी के शरीर की कमेस्ट्री उसकी मर्जी के बिना बदली जाएगी.

वैसे डाक्टरी पेशे से जुड़े लोग भी इस कानून के बजाए आपरेशन से व्यक्ति को नपुंसक बनाने के पक्ष में दलीलें दे रहे हैं क्योंकि दवाओं के अपने साइड अफेक्च होते हैं जैसे डायबिटीज, मोटापा और शरीर में कई तरह के अनचाहे बदलाव.

इस नए कानून की आलोचना करने वालों का यह भी कहना है कि ये कानून सिर्फ पुरुषों के लिए हैं पर यौन अपराध में शामिल महिलाओं के लिए ये पूरी तरह फेल साबित होगा.

उल्लेखनीय  है कि अलबामा अमेरिका का वह राज्य है जिसने पिछले महीने से ही सभी तरह के गर्भपात पर पूरी तरह से रोक लगा दी है और इसके खिलाफ भी पूरे देश मे महिलाएं प्रदर्शन कर रही हैं.

 

Spread the love

Leave a Comment