Share
जयश्री राम के नारों से भाजपा ने बंगाल में हिन्दू मुसलमान में बांट दिया चुनाव

जयश्री राम के नारों से भाजपा ने बंगाल में हिन्दू मुसलमान में बांट दिया चुनाव

उत्तर प्रदेश में महागठबंधन के कारण घट रही सीटों की भरपाई करने के लिए भाजपा पहली बार पश्चिमी बंगाल के चुनावों में धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण करने में कामयाब हो गई है और अब तो भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की सभाओं में जमकर जय श्रीराम के नारे लग रहे हैं.

यह पहला मौका होगा जब इस साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण के सहारे भाजपा पश्चिमी बंगाल में बड़ी कामयाबी हासिल करने की फिराक में हैं और जो माहौल है उससे साफ लग रहा है कि इन चुनावों के बाद यह भगवा पार्टी इस राज्य में वाम दलों को पछाड़कर दूसरे स्थान पर तो काबिज हो भी सकती है.

दरअसल यहां पहले दिन ही भाजपा ने चुनावों को धार्मिक रंग देने की कोशिशें शुरु कर दी थीं और खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी शुरुआती सभाओं में आरोप लगाना शुुरु कर दिया था कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मुस्लिम तुष्टीकरण की नीति पर चल रही है और सूबे में मुस्लिम त्योहारोे के लिए हिन्दुओं की दुर्गा पूजा और सरस्वती पूजा तक रुकवा दी जाती है.

इसकी शुरुआती काट तो ममता बनर्जी ने जनता से अपनी सभाओं में ये पूछकर निकाली कि आप लोग ही बताइये दुर्गा पूजा -सरस्वती पूजा पूरी भव्यता से होती है या नहीं और जब जनता से सकारात्मक जवाब मिल जाता तो वो मोदी को होमवर्क न करने वाला बच्चा करार दे देती.

इसकी काट के रूप में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने जय श्रीराम के नारे के रूप में निकाला और वो कारगर होता हुआ भी दीख रहा है.

लेकिन भाजपा अध्यक्ष भले ही यहां की 42 लोकसभा सीटों में से 22-23 सीटें जीतने का दावा कर रहे हो पर धार्मिक कार्ड खोलने के बाद भी भाजपा शायद ही यहां दस सीटों से ज्यादा हासिल कर पाए .

वैसे बंगाल में दस सीटे जीतना भी भाजपा के लिए बड़ी उपलब्धि है क्योंकि इस राज्य में उसकी राजनीतिक हैसियत का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि राज्य की 295 विधानसभा सीटों में से भाजपा के पास कुल तीन सीटें हैं जबकि तृण मूल कांग्रेस के पास 213, कांग्रेस के पास 42 और वामदलों के पाल 26 सीटें हैें.

Spread the love

Leave a Comment