Share
अब बुलेट ट्रेन, स्मार्ट सिटी के साथ अच्छे दिन भूल गई भाजपा

अब बुलेट ट्रेन, स्मार्ट सिटी के साथ अच्छे दिन भूल गई भाजपा

पिछले आम चुनावों में भाजपा ने जो आम लोगों को उनके आसपास का पूरा परिवेश बदल देने के जो बड़े बड़े वादे किए थे इस बार के अपने संकल्प पत्र में उनका जिक्र तक करना जरूरी नहीं समझा जबकि इनमें से कोई भी पूरा नहीं हुआ है.

इनमे से दो वादे तो ऐसे थे जिनसे जनता को लगा था कि बहुत लम्बे समय बाद देश को ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो बहुत आगे की सोचता है और हो सकता है पांच साल मेंं देश कुछ इतना बदल जाए कि हमारी अपनी आंखे ही चुधियाने लगी.

इनमें से एक वादा था बुलेट ट्रेन का जिसका आम भारतीय ने नाम भले सुना हो पर उसके बारे में कभी सोचा तो नहीं था पर मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट बताकर सत्ता में रहते हुए भी मोदी सरकार ने इस पर लोगों को खूब सपना दिखाया.

यहां तक कि जापान के प्रधानमंत्री को देश में बुलाकर और घुमाकर ऐसा माहौल बनाया गया जैसै अब पांच साल बीतते-बीतते बुलेट ट्रेन का टिकट लेकर सफर करना चाय पीने जैसा आसान हो जाएगा पर इस बार के भाजपा के संकल्प पत्र में बुलेट ट्रेन का जिक्र ही नहीं अब पता नहीं अगर भाजपा की सरकार बनी भी तो ये नई सरकार की कितनी प्राथमिकता मे होगा.

इसी तरह भाजपा ने तमाम शहरों को समार्ट सिटी बनाने का ऐलान किया था लिस्ट भी जारी की गई हो सकता है कहीं थोड़ा बहुत काम भी हुआ हो पर पूरी तरह स्मार्ट सिटी तो शायद कोई शहर नहीं बना और न ही सरकार ने इसका कोई ऐलान ही किया पर अब पार्टी इसे भूल गई है.

इसके साथ ही विदेशों से काला धन भले ही वादे के वाबजूद मोदी सरकार अभी तक न ला सकी हो पर अब इस को भूल जाना ही पार्टी ने बेहतर समझा है और इस बार पार्टी ने अच्छे दिन लाने का कोई वादा इस बार नहीं किया है.

इस बार के संकल्प पत्र में तमाम नए वादों के साथ राम मंदिर समेत 1990 के दशक से चले आ रहे कुछ पुराने वादे हैं तो रोजगार, गरीबी मिटाने और किसानों को लेकर कुछ नए वादे जरूर किए गए है.

बेरोजगारी और रोजगार पर भी इस संकल्प पत्र में स्थिति साफ न करने पर ट्विटर पर लोग चुटकियां ले रहे हैं और एक यूजर ने टिप्पणी की है भाजपा को अपने संकल्प पत्र में लिखना चाहिए था कि नेहरु ने हमें पांच साल तक कुछ करने नहीं दिया.

भाजपा के संकल्प पत्र की खास बातें——-

–    आतंकवाद पर जीरो टॉलरेंस रहेगी, देश की सुरक्षा से समझौता नहीं

–    यूनिफॉर्म सिविल कोड और सिट‌िजन अमेंडमेंट बिल लागू करेगें

–    राम मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण कराने की कोशिशें होंगी

–    2022 तक किसानों की आय दोगुनी करेंगे, एक लाख तक के किसान क्रेडिट कार्ड के लोन पर कोई ब्याज नहीं, गांवो के विकास पर 25 लाख करोड़ खर्च करेगे और साठ साल की उम्र के बाद सीमांत किसानों को पेंशन देंगे

–    राष्ट्रीय व्यापार आयोग का गठन करेंगे और छोटे दुकानदरों को भी 60 की उम्र के बाद पेंशन देंगे

–    2022 तक नए भारत के निर्माण का काम करेंगे ,हर परिवार को पक्का मकान और हर परिवार को गैस सिलेंडर देगे

–    हर घर में बिजली और शौचालय के साथ स्वच्छ पेय जल की भी व्यवस्था करेंगे

—    तीन तलाक का कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं के लिए न्याय को सुनिश्चित करेंगे

–    2022 तक स्वच्छ गंगा का काम पूरा करेंगे


Spread the love

Leave a Comment