Share
बीबीसी ने खुलासा, राजीव गांधी को 1971 का युद्ध भगोड़ा बताना सफेद  झूठ

बीबीसी ने खुलासा, राजीव गांधी को 1971 का युद्ध भगोड़ा बताना सफेद झूठ

चुनावी माहौल में भाजपा समर्थकों द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की चरित्र हत्या करने की साजिशें सोशल मीडिया पर किस तरह की जा रही है इसका खुलासा करते हुए बीबीसी ने आज बाकायदा रिपोर्ट प्रकाशित की है.

दरअसल पाकिस्तान में आतंकी शिविरों पर भारत की एयर स्ट्राइक का श्रेय लेने की होड़ में जुटे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की विपक्ष द्वारा की जा रही आलोचनाओं से बौखलाएं इन समर्थकों ने व्हाट्सएप और फेसबुक के दक्षिण पंथ समर्थक ग्रुपों में यह खबर प्रसारित करनी शुरु कर दी कि 1971 की लड़ाई के समय कायरता दिखाते हुए राजीव गांधी ने भारतीय वायुसेना में पायलेट की नौकरी छोड़कर बीवी बच्चों समेत इटली भाग गए थे जबकि देश को उस समय उनकी जरूरत थी.

इस तरह की फर्जी खबरों में कहा गया है कि आज जो राहुल गांधी सरकार को पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर हमला करने के लिए घेर रहे हैं उनके पिता ने तो देश के साथ गद्दारी की थी.

जबकि बीबीसी के खुलासे के अनुसार यह फर्जी खबर पोस्टकार्ड न्यूज और पीका पोस्ट जैसी वेबसाइट से ली गई है जो पहले भी कई बार फर्जी खबरों को लेकर सवालों के घेरे मेंं आ चुकी है.

अब इस खबर की सच्चाई यह है कि राजीव गांधी को जहाज उड़ाने का शौक जरुर था और वो भी बोइंग लेकिन उन्होंने कभी वायुसेना में नौकरी ही नहीं की बल्कि उन्होंने तो दस साल तक नागरिक विमान उड़ाने की नौकरी इंडियन एयरलाइन्स में की.

इसलिए उन्हें फाइटर पायलेट बताना तो काले को सफेद बताने जैसा झूठ है और यह भी सच है जब पाकिस्तान के साथ 1971 मे युद्ध हुआ उस समय राहुल गांधी छह साल के थे और 1972 में पैदा हुई प्रियंका गांधी का तो तब वजूद ही नहीं था.

Spread the love

Leave a Comment