Share
बार काउंसिल चेयरमैन ने अवकाश प्राप्त सुप्रीम कोर्ट जजों के खिलाफ मोर्चा खोला

बार काउंसिल चेयरमैन ने अवकाश प्राप्त सुप्रीम कोर्ट जजों के खिलाफ मोर्चा खोला

देश के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को यौन उत्पीड़न मामले में क्लीन चिट दिए जाने के तरीकों पर सवाल  उठाने वाले सुप्रीम कोर्ट के दोनों न्यायाधीशों के खिलाफ  अब बार काउंसिल आफ इंडिया के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा ने मोर्चा खोल दिया है.

दरअसल इन दोनों अवकाश प्राप्त जजों जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस जे चेलमेस्वर ने अखबारों मेंं लेख लिखकर जिस तरह मुख्य न्यायाधीश को यौन उत्पीड़न मामले में इन हाउस जांच के जरिए क्लीन चिट दी गई है उस पर सवाल उठाए थे और कहा था कि इस जांच में न सिर्फ न्याय के स्वाभाविक सिद्धांतों की अनदेखी की गई है बल्कि महिला को तो  अपनी बात कहने लायक स्थितियां भी मुहैय्या नही कराई गई.

इसी पर कड़ा रुख  लेते हुए बार काउंसिल आफ इंडिया के चेयरमैन मनन मिश्रा ने बाकायदा बयान जारी करके दोनो अवकाश प्राप्त न्यायाधीशों से अपने काम से काम रखने और न्यायपालिका की गरिमा को ठेस न पहुंचाने की सलाह दी है क्योंकि इस समय न्याय पालिका से जुड़ा हर शख्त इन हाउस जांच पर भरोसा कर रहा है.

मनन मिश्र का कहना है कि ये दोनो जज ठीक उसी तरह न्याय पालिका की गरिमा को ध्वस्त करने की कोशिश कर रहे है जैसे जजों ने सार्वजनिक रूप से प्रेस कांफ्रेस करके किया था और ये दोनों एक दो उन वकीलों के प्रभाव में आकर ऐसा कर रहे हैें जो इनके पास तब अकसर बैठा करते थे जब ये कुर्सी पर थे.

Spread the love

Leave a Comment