Share
एक्जिट पोल कुछ कहें पर मायावती के घर पर  लग रही है मुलाकाती अफसरों की लाइनें

एक्जिट पोल कुछ कहें पर मायावती के घर पर लग रही है मुलाकाती अफसरों की लाइनें

एक्जिट पोल के नतीजे भले कह रहे हो कि बसपा-सपा गठबंधन  यूपी में कोई कमाल नहीं दिखा पाया हो पर यह बात समझ से परे है कि सियासत की गरमाहट को किसी थर्मामीटर की तरह आंकने वाले नौकरशाह क्यों अचानक बसपा सुप्रीमों मायावती से मिलने के लिए लाइन लगाने लगे हैं.

प्रदेश में बीते एक हफ्ते में सेवानिवृत्त से लेकर कार्यरत तक नौकरशाह मायावती से मिलने के लिए समय मांगते दिख रहे हैं और ये जब मिलने  आते हैं तो उनके हाथों में फूलों के बड़े-बड़े गुलदस्ते होते हैं और वे मायावती के लिए ‘बेस्ट विशेज’ और ‘उज्जवल भविष्य की कामना’ करते  नहीं अघाते.

मायावती के आवास के एक स्टाफ ने बताया, “ये अफसर शिष्टाचार मुलाकात के लिए आ रहे हैं और बहनजी  जिस  दिन प्रचार नहीं करती उस दिन इन सभी से मिलती हैं.

मिलने वालों में अधिकांश वे हैं जिन्होंने मायावती के साथ उस वक्त काम किया था जब वे मुख्यमंत्री थीं तो कुछ नए भी अफसर भी होते हैं जो अकसर  बहुजन समाज से जुड़े होते हैं.

 

मायावती के मुख्यमंत्री रहने के दौरान उनके तहत काम कर चुके एक सेवानिवृत्त अधिकारी का आकंलन है कि केंद्र में सरकार चाहे जिसकी बने पर यह साफ है कि बहनजी  वापसी कर रहीं हैं और किसी को शुभकामनाएं देने में तो कुछ गलत नहीं है.

 

जबकि एक अन्य नौकरशाह  का कहना था कि  , “… मुलाकात को गलत समझे जाने का भी खतरा  है, इसलिए  मैंने तय किया है कि गुलदस्ता नतीजे आने के बाद भेजूंगा.”

पूर्व में मायावती के नजदीक रह चुके नौकरशाह एग्जिट पोल के नतीजों पर विश्वास करने के लिए तैयार नहीं दिखे जबकि एक अन्य अफसर का कहना है कि भाजपा का तो पता नहीं पर एक्जिट पोल से अलग बसपा यूपी में कहीं अच्छा करने जा रही है.

 

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि अगर एग्जिट पोल सही साबित हुए तो भी बसपा की वापसी तो तय ही है क्योंकि उसे  2014 में तो कोई सीट नहीं मिली थी पर इस बार सीटें मिलना तय तो है ही.

——आईएएनएस

Spread the love

Leave a Comment