Share
अमृतसर हमले में सुराग देने पर 50 लाख का इनाम

अमृतसर हमले में सुराग देने पर 50 लाख का इनाम

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को ऐलान किया कि अमृतसर जिले के निरंकारी सत्संग भवन में प्रार्थना सभा के दौरान ग्रेनेड फेंकने वाले दो युवकों के बारे में जो कोई भी सुराग देगा, उसे इनाम के तौर पर 50 लाख रुपये दिए जाएंगे.

वो पहले ही कह चुके हैं कि इस हमले में किसी खालिस्तानी या कश्मीरी उग्रवादी संगठन का  हाथ  हो सकता है.

पंजाब पुलिस ने राजसांसी इलाके के अदलीवाला गांव में हुए ग्रेनेड हमले की जांच के लिए कई टीमों का गठन किया है और  चेहरा ढके दोनो युवकों के बारे में  जानकारी जुटाने के लिए  सीसीटीवी के फुटेज खंगाले जा रहे हैं.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जहां कुछ घायलों को अमृतसर अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है, वहीं कई अन्य अभी भी अस्पताल में है और एक  की हालत अभी भी गंभीर है.

इस बड़े आतंकवादी हमले में तीन लोग मारे गए, जबकि 20 घायल हुए हैं.

चेहरा ढके मोटरसाइकिल पर आए दो युवकों ने अमृतसर से 15 किलोमीटर दूर अदलीवाला गांव में निरंकारी धार्मिक सभा के दौरान ग्रेनेड फेंक दिया था.

गुरु राम दास जी अमृतसर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से करीब तीन किलोमीटर दूर ग्रामीण क्षेत्र में स्थित परिसर पर हुए इस हमले ने दहशत पैदा कर दी।

सभी पीड़ित आसपास के गांवों के निरंकारी अनुयायी थे, जो रविवार को साप्ताहिक धार्मिक सभा के लिए जुटे थे।

वरिष्ठ अधिकारियों के साथ घटनास्थल पर फौरन पहुंचे पंजाब के पुलिस महानिदेशक सुरेश अरोड़ा ने स्वीकार किया कि यह एक ‘आतंकवादी कृत्य’ है।

प्रत्यक्षदर्शियों ने पुलिस को बताया कि चेहरा ढककर मोटरसाइकिल पर आए दो युवक गेट पर मौजूद एक महिला पर पिस्तौल तानकर जबरन निरंकारी भवन के परिसर में घुस गए।

परसिर में उस समय करीब 200 निरंकारी अनुयायी मौजूद थे।

पिछले कुछ महीनों से खालिस्तानी और कश्मीरी आतंकवादी पंजाब में माहौल बिगाड़ने और हमले अंजाम देने की कोशिश कर रहे हैं।

जम्मू एवं कश्मीर पुलिस के साथ पंजाब पुलिस ने हाल ही में पंजाब के संस्थानों में पढ़ रहे कश्मीरी छात्रों के दो गिरोहों का पदार्फाश किया था, जिनके संबंध कश्मीरी आतंकवादी संगठनों से थे।

गौरतलब है कि 14 सितंबर को कश्मीरी आतंकवादियों ने मकसूदां पुलिस थाने को हथगोले फेंक कर निशाना बनाया था। हालांकि, इस हमले में कोई घायल नहीं हुआ था।

पंजाब के गुरदासपुर जिले में कश्मीरी आतंकवादी जाकिर मुसा का पोस्टर शुक्रवार को रहस्यमय तरीके से सामने आया, जिसके बारे में कहा गया कि वह पंजाब में देखा गया था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 18 महीनों में 15 आतंकवादी गिरोहों का पर्दाफाश हुआ है।

–आईएएनएस

Spread the love

Leave a Comment