Share
जलियांवाला बाग पर एक दूसरे को नंगा करने में जुटे अकाली और पंजाब कांग्रेस

जलियांवाला बाग पर एक दूसरे को नंगा करने में जुटे अकाली और पंजाब कांग्रेस

जलियावाला बाग कांड को लेकर अकाली दल और पंजाब कांग्रेस के बीच स्तरहीन राजनीति की मिसाल तब सामने आई है जब दोनों के बड़े नेताओं ने पुरखो पर जनरल डायर से मिले होने का आरोप लगाते हुए मौजूदा पीढ़ी की राष्ट्रभक्ति पर सवाल उठाए.

इस विवाद की शुरुआत अकाली दल के सबसे बड़े परिवार की बहू और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने कांग्रेस ने अमरिन्दर सिंह को घेरने के लिए एक फोटो ट्वीट करके की.

हरसिमरत का कहना था कि जलियांवाला बाग नरसंहार के दोषी जनरल डायर के साथ ट्वीट की गई उनकी यह फोटो सुबूत है इतने बड़े नरसंहार के बाद अमरिंदर सिंह के दादा डायर के साथ खड़े थे .

केंद्रीय मंत्री का कहना है कि इससे पहले भी अमरिंदर सिंह के रिश्तेदार अहमद शाह अब्दाली से मिल गए थे और अब इस खुलासे के बाद अमरिंदर चाहे जितनी माफी मांगे पर उन्हें हिन्दुस्तान में मुंह छिपाने के लिए जगह नहीं मिलेगी.

उनका कहना है कि इतना ही नहीं अमरिंदर सिंह के दादा भूपेन्द्र सिंह ने टेलीग्राम करके इस नरसंहार के लिए डायर को बधाई दी थी और इस बात की तस्दीक डायर ने खुुद अपनी किताब और मौजूदा मुख्यमंत्री के रिश्तेदार नटवर सिंह द्वारा लिखी किताब में की गई है.

इन आरोपों के जवाब में कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने हरसिमरत कौर से कहा है कि वो पहले अपने पति और पति के पिता प्रकाश सिंह बादल से यह पूछें कि जिस दिन ब्रितानी जनरल डायर ने यह नरसंहार किया, उसी शाम उनके परिवार ने उसे डिनर पर बुलाकर क्या देश के जनमानस से गद्दारी नहीं की थी.

कैप्टन ने जवाबी ट्वीट में लिखा है कि- उनके ससुर प्रकाश सिंह बादल क्या अपने पिता सरदार सुंदर सिंह मजीठिया द्वारा जलियांवाला बाग के कातिल जनरल डायर को शानदार भोजन कराने के बाद इस गद्दारी के लिए 1926 में मिली नाइट की उपाधि स्वीकार करने के लिए क्या देश से माफी मांगने का साहस जुटा सके हैं या अभी भी मुंह छुपाए बैठे रहना चाहते हैं.

Spread the love

Leave a Comment