Share
महिला की गलत गिरफ्तारी करने में सीबीआई पर पचास हजार रुपए का जुर्माना

महिला की गलत गिरफ्तारी करने में सीबीआई पर पचास हजार रुपए का जुर्माना

बाम्बे हाईकोर्ट ने पंजाब नेशनल बैंक स्कैम में एक महिला की गलत गिरफ्तारी करने पर सीबीआई पर पचास  हजार रुपयों का जुर्माना लगाया है.

सीबीआई ने इस महिला को पूछतांछ के लिए अपने दफ्तर बुलाया था पर  रात आठ बजे अचानक  उसे गिरफ्तार कर लिया  जबकि देश के कानून के अनुसार किसी भी महिला की सूरज ढलने के बाद से लेकर सुबह होने तक गिरफ्तारी नहींं की जा सकती और अति विशेष स्थितियों में अगर गिरफ्तारी करनी ही है तो मजिस्ट्रेट की लिखित इजाजत जरूरी होती है.

हाईकोर्ट को इस महिला कविता मनिकक्कर के वकील यशवर्धन तिवारी ने बताया कि पूछतांछ के लिए बीस फरवरी को दोपहर बाद तीन बजे सीबीआई दफ्तर बुलाई गई इस महिला को रात आठ बजे बताया गया कि सीबीआई ने उसे गिरफ्तार कर लिया है और उसके खिलाप सर्च वारंट भी हासिल कर लिया है.

इसके साथ ही विशेष जज ने इस महिला को 14 दिन की सीबीआई रिमांड पर भेज दिया है जबकि कानून और सीआरपीसी इस बारे में बहुत साफ है कि महिला की शाम ढलने के बाद बिना मजिस्ट्रेट की पूर्व अनुमति लिए गिरफ्तारी नहीं हो सकती.

सीबीआई के वकील ने अदालत में तर्क  दिया कि अदर  इस महिला की अगर गिरफ्तारी न की जाती तो इस बड़े बैंक घोटाले में आरोपी रही इस महिला के फरार हो जाने का खतरा था.

बाम्बे हाईकोर्ट की एसजे काथावाला  और भारती एच डांगरे की पीठ ने माना कि इस गिरफ्तारी में सीबीआई ने कानूनों का पालन नहीं किया है और न ही ये गिरफ्तारी किसी महिला पुलिस अफसर  या महिला के पति की मौजूदगी में की गई.

इसे गम्भीर घटना मानते हुए अदालत ने सीबीआई को आठ हफ्तों के भीतर पचास हजार की रकम इस महिला को बतौर हर्जाना भरने के निर्देश दिए हैं.

Spread the love

Leave a Comment