Share

महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना की ही सरकार बनने की उम्मीदें फिर बढ़ीं

महाराष्ट्र में नई सरकार बनाने के पहाड़ जैसे सवाल को अभी तक तो भरपूर कोशिशों के बाद भी तोड़ने का कोई साफ-साफ रास्ता निकाल पाने में दिग्गज नेता शरद पंवार भले ही कामयाब नहीं हो पाएं हो पर इस बीच केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने जो फार्मूला दिया है उससे भाजपा और शिव सेना की दूरियां घटने की नई उम्मीद बन गई है.

अठावले के फार्मूले अनुसार भाजपा और शिव सेना महाराष्ट्र में बड़े और छोटे भाई की हैसियत स्वीकार करके इस फार्मूले पर विचार करें कि तीन साल के लिए राज्य का मुख्यमंत्री बड़े भाई यानि भाजपा से हो और दो साल के लिए यह कुर्सी छोटे भाई यानि शिव सेना को दे दी जाए.

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले के इस सुझाव पर तो शिव सेना  खेमे से तुरंत ही सकारात्मक प्रतिक्रिया आ गई और पार्टी के सांसद संजय राउत ने साफ कर दिया कि इस नए फार्मूले पर विचार किया जा सकता वहीं खबर है कि भाजपा भी शिव सेना की रज़ामंदी से सरकार बनाने के लिए नए सिरे से सक्रिय होने के मूड में आ गई है.

वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता ने शिवसना प्रमुख उद्धव ठाकरे से हुई बातचीत और राज्य के राजनीतिक माहौल पर आज कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से बातचीत की और उसके बाद बाकायदा एक प्रेस कांफ्रेस करके साफ कर दिया कि शिव सेना के साथ सरकार बनाने को लेकर अभी तक कोई अंतिम फैसला नहीं हुआ है और अभी उन सभी दलों और नेताओं से बातचीत की जाएगी जो इस सरकार का समर्थन करने वाले हैं.

कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस में शिवसेना के साथ जाने को लेकर यह हिचक अभी तक कायम है जबकि कांग्रेस नेता अहमद पटेल की सीधे और खुद सोनिया गांधी की फोन पर उद्धव ठाकरे से बातचीत हो चुकी है.

Spread the love

Leave a Comment