Share
दुनिया का पहला तैरने वाला देश 2022 तक तैयार

दुनिया का पहला तैरने वाला देश 2022 तक तैयार

एक  पूर्ण सम्प्रभुता सम्पन्न देश जो अंतर्राष्ट्रीय समुद्र में तैरता हुआ होगा अब ज्यादा दूर की बात नहीं हैं और दुनिया का पहला ऐसा देश 2022 तक अस्तित्व में आ जाएगा.

शुरुआत में ही इस देश में न सिर्फ तीन सौ से ज्यादा परिवारों को बसाने के लिए मकान होंगे बल्कि कई होटल, क्लब और बिजनेस सेंटर भी होंगे और  क्रिप्टोकरेंसी वेयरान ही यहां की आधिकारिक मुद्रा होगी.

दुनिया भर में पेमेंट बैंक जैसी संस्था पेपल के संस्थापक पीटर थियेल द्वारा पोषित इस फ्लोटिंग नेशन को बनाने की थीम राजनेताओं के चंगुल से आजाद एक ऐसा देश बनाना है जहां लोग बिना तनाव, प्रतिबंधों और स्वार्थों के जी सकें.

फिलहाल यह तैरने वाला देश प्रशांत महासागर में पालीनेशियाई सरकार और कुछ स्वतंत्र उद्यमियों की मदद से बनाया जा रहा है और अगर यह प्रयोग कामयाब रहा तो ऐसे कई देश अस्तित्व में आ सकते हैं.

इस देश की परिकल्पना को अमली जामा पहनाने में लगी नाथालाई गारसिया ने हाल ही में दावा किया है कि यह देश एक समय में क्लाइमेट चेंज से उजड़ने वालों का सबसे बड़ा आश्रयदाता होगा.

गैर लाभकारी संस्था सीस्टेडिंग इंस्टीट्यूट  और ब्लू फ्रंटियर द्वारा बनाया जा रहा यह तैरने वाला देश ठीक उसी जगह है जहां मूंगे की चट्टाने हैं और ये इसे काफी मजबूत सहारा भी देंगी.

शहर को बनाने में स्थानीय बास, नारियल के फाइबर,लकड़ी, धातु और प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया है और हर इमारत की छत पेड़ पौधों से हरी-भरी दिखे इसका खास ख्याल रखा जा रहा है.

Spread the love

Leave a Comment