Share
दिल्ली हाईकोर्ट ने पूछा भारतीय सेना से पुरुष नर्स क्यों नहींं

दिल्ली हाईकोर्ट ने पूछा भारतीय सेना से पुरुष नर्स क्यों नहींं

इंडियन प्रोफेशनल  नर्सेज एसोसिएशन ने दिल्ली हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर करके मांग की है कि अवसरों की समानता की नीति  के तहत सेना के दरवाजे भी पुरुष नर्सों के लिए खोल  दिए जाए.

नर्सिंग एसोसिएशन ने दिल्ली उच्च न्यायालय में  दायर अपनी याचिका  में अदालत  से इंडियन मिलेट्री सर्विस आर्डिनेन्स और मिलेट्री नर्सिंग सर्विस रूल्स  में संशोधन करके उसमें पुरुष नर्सिंग  स्टाफ की भर्ती की  व्यवस्था  की मांग जाए.

इस याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने भारतीय सेना और रक्षा विभाग को नोटिस जारी करके पूछा है  कि थलसेना की नर्सिंग सेवा शाखा में पुरुषों को क्यों नहीं शामिल किया जाता.

कोर्ट ने इस सेवा में केवल महिलओं को रखने की परंपराओं को पुरातनपंथी बताया है और जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी हरिशंकर की सदस्यता वाली पीठ ने कहा कि  समूची नर्सिंग ब्रांच बगैर पुरुषों के चलाना आश्चर्यजनक है  जबकि देश में हजारों की संंख्या में प्रशिक्षित नर्स हैं.

Spread the love

Leave a Comment