Share
गजब राजनीतिः तृणमूल के खिलाफ माकपा और भाजपा साथ आए

गजब राजनीतिः तृणमूल के खिलाफ माकपा और भाजपा साथ आए

सच में राजनीति में कुछ भी सम्भव हैऔर शायद इसी की एक बानगी पेश की है भाजपा और माकपा ने पश्चिम बंगाल में  तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ पंचायत चुनावों में कई सीटों पर एक दूसरे का हाथ थामकर.

अब दोनों ही पार्टियां कह रही हैं कि ऐसा जनता की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए करना पड़ा जो तृणमूल के खिलाफ आर-पार की लड़ाई चाहती है. .

दोनों दलों में यह भाईचारा अप्रैल के आखिरी हफ्ते में विकसित हुआ जब दोनों ने तृणमूल कांग्रेस की कथित हिंसा के खिलाफ नदिया जिले के करीमपुर-राणाघाट में एक संयुक्त  रैली का आयोजन किया.

इस रैली के दौरान दोनों दलों के कार्यकर्ता अपने अपने झंडे लेकर पहुंचे.

संयुक्त रैली में माकपा की राज्य समिति के सदस्य रमा विश्वास ने कहा कि यह तो  तृणमूल कांग्रेस की हिंसा के खिलाफ ग्रामीणों की रैली है जिसमें दोनो दल शामिल हैं.

पश्चिम बंगाल की भाजपा इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने भी माना कि विरोधी विचारधारा के बावजूद कुछ तो सहमति दोनो दलों में बनी है.

खबर है कि नदिया करीमपुर  में भाजपा ने अपने लोगों के नामांकन वापस कराए हैं ताकि माकपा तृणमूल से लड़ सके तो कुछ सीटों पर माकपा ने भी भाजपा के लिए यही काम किया है.

Spread the love

Leave a Comment