Share
कानून तोड़ने वालों को प्रोत्साहन और कानून मानने वाले दुखी-सुप्रीम कोर्ट

कानून तोड़ने वालों को प्रोत्साहन और कानून मानने वाले दुखी-सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने आज हिमाचल के सोलन में अवैध निर्माण  गिराने गई महिला अफसर की हत्या की सुनवाई करते हुए महत्वपूर्ण टिप्पणी की कि आज कानून का पालन करने वाले दुखी हैं और कानून तोड़ने वालों को प्रोत्साहन दिया जा रहा है.

सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति जस्टिस दीपक गुप्ता  ने कहा कि ऐसे रहा तो हम सरकारी मशीनरी को आदेश देना ही बंद कर देंगें क्योंकि हमारे आदेशों का पालन तो अफसर ही कराते हैं.

महिला अफसर को गोली मारने का मुल्जिम विजय कुमार

जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच ने हिमाचल प्रदेश सरकार से पूछा कि महिला अफसर शैलबाला अवैध निर्माण गिराने घटनास्थल पर गईं थीं तो उनके साथ 160 पुलिस कर्मी थे फिर उन्हें आरोपी ने गोली कैसे मारी और गोली मारकर वो कैसे भाग गया.

जस्टिस लोकुर ने हिंदी में बोलते हुए कहा कि ये वही बात है कि  हम तो अवैध निर्माण करेंगे फिर कोर्ट में निपट लेगे और अगर कोई अफसर तोड़फोड़ के लिए आया तो उसे गोली मार देंगे.

इस पर हिमाचल सरकार के वकील ने सफाई दी कि जब घटना हुई तो लंच चल रहा था और महिला अफसर भी एक गेस्ट हाउस चली गईं थीं बाद में गोली की आवाज सुनकर पुलिस वाले वहां भागकर पहुंचे.

बेंच ने यह भी कहा कि अफसर की जान हमारे आदेशों का पालन कराने में नहीं बल्कि अदालत के आदेश न मानने से गई है जिससे अपराधियों के हौसले बुलंद हुए.

इस मामले की अगली कार्रवाई अब नौ मई को होगी और उधर महिला अफसर की आज उनके गांव में अंत्येष्टि कर दी गई जबकि उन्हें गोली मारने वाला विजय ठाकुर उत्तर प्रदेश के वृंदावन से पकड़ा गया है जबकि पुलिस उसे हिमाचल के जंगलों में तलाश रही थी।

Spread the love

Leave a Comment