Tuesday, October 17 2017
BREAKING NEWS

एड्स के खिलाफ पहली इंसानी जीत…

एड्स के खिलाफ पहली बार छोटी सही पर लड़ाई जीती इंसान ने...

एड्स के खिलाफ पहली बार छोटी सही पर लड़ाई जीती इंसान ने…

लाइलाज जानलेवना एड्स के खिलाफ पहली बार दो एचआईवी वैक्सीन का एक साथ इस्तेमाल करके वायरस को मिटाने में सीमित ही सही पर सफलता मिली है जिससे उम्मीद की जा सकती है कि शायद वह दिन जल्दी ही आ जाए जब आदमी आधुनिक दुनिया की इस बीमारी पर भी अंकुश पा ले.

हाल ही में बारसिलोना के इरसी काएक्सा एड्स रिसर्च संस्थान के डाक्टरों ने एचआईवी वायरस का फैलाव रोकने वाली दो वैक्सीनों को एक साथ कैसर प्रतिरोधी दवा के साथ २४ एड्स रोगियों को देने का प्रयोग किया और तीन साल बाद इनमें से पांच मरीजों के परीक्षण में एचआईवी के वायरस होने के कोई भी सुबूत सामने नहीं आए हैं.

प्रतिष्ठित पत्रिका न्यू साइंस में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार इन पांच में से एक मरीज तो ऐसा है जिसे एक बार वायरस के प्रकोप से मुक्ति दिलाने के बाद सात महीने हो चुके हैं और उसे कोई भी दवा नहीं दी गई फिर भी उसमें वायरस के दोबारा सक्रिय होने के कोई संकेत नहीं मिले हैं.

इस प्रयोग को करने वाले टीम के प्रमुख डाक्टर बीट्रिज मोथे के अनुसार इस प्रयोग की कामयाबी से उम्मीद है कि वायरस को नियंत्रण में रखने के लिए दुनिया भर मे डेढ़ करोड़ से ज्यादा एड्स के मरीजो को रोजाना दिए जाने वाले एंटी वायरस इंजेक्शनों से जल्दी ही छुटकारा मिल सकता है पर अभी यह पता लगाया जाना जरूरी है बाकी मरीजों में ऐसे ही नतीजे न आने की वजह क्या है.

हालांकि एड्स के इलाज से जुड़े डाक्टरों ने इस अध्ययन को बहुत छोटे स्तर का बताया फिर भी सभी ने यह माना है कि ऐसा पहली बार हुआ है कि वायरस का फैलाव रोकने वाली वैक्सीनों की मदद से इस खतरनाक वायरस को बढने से रोकने में कामयाबी मिली है और यह बड़ी बात है.

About the Author

Related Posts

Leave a Reply

*

Powered By Indic IME